स्तनपान के दौरान सावधानियां 

आज का विषय - माँ के बारे मे है - माँ स्वस्थ  रहेंगी तो बच्चे  भी स्वस्थ रहेंगे ।

Self-Care for the Breastfeeding Mother | स्तनपान के दौरान सावधानिया

             

  • स्तनपान माने जब माता बच्चे को दूध पीला रही है जब बच्चा सिर्फ माँ के दूध पर ही निर्भर है, ये समय होता है जन्म से ले कर छह महीने तक का समय। जब आपको सिर्फ बच्चे को माँ का दूध ही पिलाना है। उस समय पर क्या ध्यान देना चाहिए इसके बारे में आज चर्चा करेंगे ।
  •   जब बच्चा हो जाता है तो माँ थोड़ी सी कमजोर है, उनका ऑपरेशन हुआ है या उनका नार्मल डिलेवरी भी हुआ है तो शरीर कमजोर हो गया है , बहुत सारा दर्द हुआ है माँ ने बहुत दर्द झेला है । हम ये बात बहुत अच्छी तरह जानते हैं की सबसे जयादा लेबर का दर्द होता है । 
  •   जब वो बच्चा डिलेवर करती है तो इसके बाद आप को पोषण का बहुत ध्यान रखना है । देखिये यहाँ पर मैं बता दूँ आज कल थोड़ा ट्रेंड है, कम वजन रखने का हम ये सोचते हैं की प्रेग्नेंसी मे वजन ज्यादा हुआ है उससे फटा फट कम कर लें । तो देखिये इसका भी तरीका है वो हम डाइट अच्छी ले कर भी कर सकते हैं, लेकिन प्लीज इसके वजह से बच्चे को नुकसान नहीं होना चाहिए।
  • याद रखिये ये बच्चे का बढ़ने का समय है शरीर बहुत जल्दी बढ़ रहा है , शरीर को बहुत को सीखना है । दिमाग बहुत ज्यादा निखरने वाला है तो इस समय मे बच्चे का पोषण कम करेंगे तो फिर बेबी के लिए सही नहीं होगा। तो आप बिलकुल ऐसा नहीं करना चाहेंगे, तो माँ जो अपने lifestyle के हिसाब से जो डाइट लेते हैं उससे डेढ़ गुना यानि जितना आपका है और आधा आपको लेना ही है। क्यूंकि आपके साथ एक जिंदगी और जुड़ी हुई है, जो आप पर ही निर्भर करती है तो आपको 500 से 600 KCal से ज्यादा लेनी है जिनको कैलेरिस का थोड़ा सा भी नॉलेज है वो समझ जायेंगे की 500 से 600 किलो कलेरिस कैसे लेने है वो भी बैलेंस होना चाहिए यानि उसमे प्रोटीन भी डबल होना चाहिए, कैल्शियम डबल होना चाहिए Carbohydrates 20 से 30 % होना चाहिए।
  • यानि जो आपका डाइट है उसमे रोटी बढ़ेगी दाल बढ़ेंगी सब्जी बढ़ेंगी। दूध आपको ज्यादा लेना है और साथ मे कोशिश करे स्प्राउट्स लें, फल लें। जो Nuts होते हैं Dryfruits होते हैं वो आपको डाइट मे जरूर मिलाना है। काजू, बादाम और दूध ये बहुत जरुरी है । तो इस चीज का आपको बहुत ज्यादा ध्यान रखना है की ३ गिलास दूध आप लें। जितनी रोटी आप खाते हैं उससे २ रोटी ज्यादा लें, और डाल दो कटोरी लें और साथ में प्रेग्नेंसी के बाद यानि जच्चा वाले समय में जो हमारे घर मे बनता है Dryfruits मिक्स करके लेना है। तो फिर जो आपका मिल्क है वो आपके बच्चे के लिए पूरा बनेगा। याद रखे की माँ के दूध में बहुत सारे Antibodies होती है, बहुत प्रोटीन होता है उसमे इतनी ताकत होता है की बच्चा बहुत सारी बीमारी से लड़ सकता है। 

दूसरी चीज आती है जो मैंने अपने पहले भी वीडियो मे बताया है की अगर माँ को कोई दवाई चल रही है तो उसका ध्यान रखे। जैसे प्रेग्नेंसी से पहले, प्रेग्नेंसी के बाद और वैसे ही स्तनपान समय मे भी ध्यान रखना है। क्युकी जो भी दवाई आप लेती है उसका थोड़ा अंश दूध में भी आता है।  तो ये बात अपने डॉक्टर से जरूर पूछ ले की क्या क्या दवाई आगे चलानी है , कोन सी दवाई लेनी है कोनसी नहीं लेनी है। कही ऐसा तो नहीं है कोई ऐसी दवाई चल रही है की आपको बच्चे को दूध उस समय पर नहीं पिलाना है। तो ये बात आप जरूर पूछ लें, याद रखे आपका दूध बच्चे के अच्छे के लिए है। लेकिन अगर कुछ ऐसी परेशानी आती है की थोड़े समय के लिए आपका दूध बंद करना पड़े, तो वो भी करेंगे।

तीसरी चीज आती है कि जो भी सप्लीमेंट्स हैं जैसे माँ में  केल्सियम की कमी हो जाती है, Iron की कमी हो जाती है। डिलवरी के समय इतना खून निकलता है और  दूध बनने मे बहुत सारा केल्सियम, विटामिन लग जाता है। तो वो सप्लिमेंटी साथ मे लेने है,  खुराक ऐसी लेनी है जिसमे ये सब चीज ज्यादा हो। यानि की हरी साग सब्जिया, स्प्राउड्स, चने और आपको दूध पीना है जैसे की मैंने आपको पहले भी बताया है। हां एक बात मैं अच्छे से बताना चाहती हूँ की पहले के ज़माने में हमारा orthodox culture रहा है, की जब डेलवेरी वाला समय रहता है, तो माँ को बहुत कम खाने को देते हैं की कही टांके नहीं भरेंगे उसके घाव नहीं भरेंगे। तो देखिए आज के जमाने में ऐसा नहीं है, पहले के जमाने में अच्छे Antibiotics नहीं होते थे, अच्छे मेडिसन नहीं होते थे। तो घाव सूखने में समय लगता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब अच्छी दवाई के सहारे टांके अच्छे से भर जाते हैं।और मां का डाइट अच्छा रखें, अगर थोड़ी बहुत चीजों से आपको लगता है बहुत ज्यादा हैवी होगा या गैस बनेगी तो उसको नहीं ले।

  • जो मेजर मेजर खाने की चीजें हैं वह सभी मां को दे सकते हैं। साथ में ऐसी चीजें भी दीजिए जिससे दूध ज्यादा बने। इसका भी ध्यान रखेंगे तो बच्चे को ज्यादा से ज्यादा दूध मिलेगा।  ध्यान रखें कि सूखा सूखा खाना ना खाए। हमेशा थोड़ा सा लिक्विड रखें, जैसे आप दलिया ले रहे हैं तो गीला गीला दलिया ले, दाल हो तो उसमें पानी ज्यादा हो, खिचड़ी है तो पतली और जब भी बच्चे को फीड कराना है तो उसके पहले गुनगुना पानी  पिए और उसमें थोड़ा सा अजवाइन हो तो तो अच्छा रहेगा और उससे मिल्क भी अच्छे से बनता हैं।
  • बच्चे की जो प्यास है वह भी आपके दूध से ही बुझनी है। तो वह भी आपको बच्चे को देना है दूध में भी पानी मिलेगा आपको पानी ज्यादा पीना है तभी बच्चे को पानी मिलेगा। ठीक है तो यह तीन चार चीज है और यह चीजे स्तनपान समय में याद रखें और हां बार-बार बच्चे को फीड करवाए। यह वजन कम करने का अच्छा नुस्खा है। जितना बच्चे को आप स्तनपान  करवाओगे, आपने जो एक्स्ट्रा Calories ली हैं वह अपने बच्चे को साथ-साथ दे दी। और बार-बार स्तनपान करने से बच्चे का वजन अच्छा होगा और आपका वजन  कम होता जाएगा ।किसी-किसी को चेहरे पर Blemish हो जाते हैं, पूरी शरीर में दाग, पिंपल भी हो जाते हैं यह सब चला जायेगा। बस आप स्तनपान करवाते रहिए सब चीज अपने आप धीरे-धीरे ठीक हो जाएंगे। आपके जितने भी Hormonal चेंजेस थे वह अपने आप वापस आने लगेंगे।

सबसे जरूरी बात स्तनपान समय में पॉजिटिव थिंकिंग रखे ओवरऑल ही वह मां में होनी चाहिए। वह इस समय बरकरार रखनी है, तो जब भी आप बच्चे को फीड करवाएं के फीडिंग समय बहुत ही पॉजिटिव थिंकिंग रखें। और रात में बच्चे को फीडिंग जरूर करवाएं, देखिए Prolactin Hormone होता है जिससे हमारा मिल्क बनता है, वह रात में बहुत सीक्रेट होता है। और वह दिन तक काम करता रहता है और आपका मिल्क प्रोडक्शन बढ़ता है ।

अगर आपको ऐसा लगता है कि आपका दूध कम बनता है। आपका पहला बच्चा है, दूध कम बन रहा है आपका सिजेरियन हुआ था, तो आपको परेशानी  हो रही है तो इसके लिए आप डॉक्टर से मिले ऐसे भी बहुत सारे मेडिसिन आते हैं जो दूध का बनाना बढ़ाते है। घर के भी कुछ चीजें हैं जिससे  दूध बढ़ता है ।

 

https://youtu.be/3nX1uydVUj4